समर्थक

शनिवार, 2 जून 2012

खण्डहरों का मालिक बनकर



पाकर पीड़ा का पुरस्कार ,मन ये कहकर मुस्काया है
खण्डहरों का मालिक बनकर भी, हाथ बहुत कुछ आया है



सच में है वो जीवट का धनी,जो आँसू पीकर हँसता है
टूटी आशाओं के मलबे में ,जिसका सपना बसता है
जो डरा रहा वह भंगुर है,बस वही यहाँ फौलाद बना
जो लौह हक़ीकत की ज्वाला में, अच्छी तरह झुलसता है

अवसादों के गलियारों में ,हमने खुद को समझाया है
खण्डहरों का मालिक बनकर भी, हाथ बहुत कुछ आया है
 


होती है हर चौराहे पर ,नीलामी सुख दुख की हर दिन
होता हर दिन सागर मन्थन ,पर अमृत मिलना बड़ा कठिन 
मिल भी जाता अमरत्व अगर ,वेदना बहाकर ले जाता
दुख  नाशवान का आभूषण , नीरस है जीवन पीड़ा बिन 

ये क्या कम है ?जो मधुर हलाहल का प्रसाद मिल पाया है
खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है



ये दुपहरिया का प्रखर सूर्य ,विश्रान्त हुआ ही ढलता है
ये चक्र निराशा प्रत्याशा का, हरदम ही तो चलता है
तब व्यथा छोड़कर अपनाऊँ वैभव ,विलासिता कुटिल बनूँ?
ध्वंसावशेष के प्रहरी को ,इतना तो तमगा मिलता है

अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है


 
 
 


 

39 टिप्‍पणियां:

  1. होती है हर चौराहे पर ,नीलामी सुख दुख की हर दिन
    होता हर दिन सागर मन्थन ,पर अमृत मिलना बड़ा कठिन
    मिल भी जाता अमरत्व अगर ,वेदना बहाकर ले जाता
    दुख नाशवान का आभूषण , नीरस है जीवन पीड़ा बिन

    ये क्या कम है ?जो मधुर हलाहल का प्रसाद मिल पाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है

    अंजनी जी, हरेक पंक्ति अतिसुंदर !!
    इस सुंदर सी रचना के लिए बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये क्या कम है ?जो मधुर हलाहल का प्रसाद मिल पाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है...

    Very appealing creation...

    Badhayii..

    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. अवसादों के गलियारों में ,हमने खुद को समझाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी, हाथ बहुत कुछ आया है ...

    बहुत खूब ... जो मिल जाए वो कम नहीं है ... प्रसाद मान के उसको ग्रहण करना ही जीवन की श्रेष्ठता है ... सुन्दर रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अवसादो में भी ख़ुशी क्या कम है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच में है वो जीवट का धनी,जो आँसू पीकर हँसता है
    टूटी आशाओं के मलबे में ,जिसका सपना बसता है
    जो डरा रहा वह भंगुर है,बस वही यहाँ फौलाद बना

    bahut achha likha hai, sunder, prabhaavkari shabdon ka chayan.

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,,,,,,
    समर्थक बनगया हूँ आपभी बने तो मुझे खुशी होगी,,,,,,

    RECENT POST .... काव्यान्जलि ...: अकेलापन,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है

    बहुत सुन्दर .. बिम्ब खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस कविता का ओजपूर्ण स्वर और प्रवाह कवि के हुंकार को हम तक प्रभावकारी ढंग से पहुंचाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है

    बहुत सुंदर । मेरे नए पोस्ट पर आप सादर आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही बेहतरीन लिखा है आपने
    ये क्या कम है ?जो मधुर हलाहल का प्रसाद मिल पाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है
    लाजवाब रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुंदर भाव...सुन्दर प्रस्तुति...हार्दिक बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  12. .... प्रशंसनीय प्रस्तुति आपकी रचना जानदार और शानदार है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है

    .....बहुत खूब ! बहुत सशक्त अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है......बहुत सुन्दर सशक्त अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  15. होती है हर चौराहे पर ,नीलामी सुख दुख की हर दिन
    होता हर दिन सागर मन्थन ,पर अमृत मिलना बड़ा कठिन
    मिल भी जाता अमरत्व अगर ,वेदना बहाकर ले जाता
    दुख नाशवान का आभूषण , नीरस है जीवन पीड़ा बिन .... अमृत है कहाँ ! आसुरी शक्ति खुद में लेकर सब विष वमन कर रहे .

    उत्तर देंहटाएं
  16. अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है
    बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  17. sarthakata liye ...bahut gahan rachna ...
    bahut sundar ..
    shubhkamnayen ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
      खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है
      bahut hi gahre bhav.....

      हटाएं
  18. Hi Anjani,

    mere blog pe tumhaara comment dekha to, browse karte karte tumhaare blog pe aaya. kamaal ka likha hai.

    main bhi ISM pass out hun 2010 batch. shayad pehle kabhi nahi mila tumse.

    achchha likhet ho. likhate raho. avsaadoN ke galiyaaron mein bahut kuchh hai mine karne ko, koyala bhi hai diamond bhi hai. in galiyaaron me vicharne waaloN ke liye jaane kitani bahumulya kavitaayeN bhi haiN.


    best wishes.

    -ckh-

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर व सार्थक भावाव्यक्ति ...बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  20. मिल भी जाता अमरत्व अगर ,वेदना बहाकर ले जाता
    दुख नाशवान का आभूषण , नीरस है जीवन पीड़ा बिन
    ये क्या कम है ?जो मधुर हलाहल का प्रसाद मिल पाया है
    अब कुछ लिखने की जरुरत है .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  21. आन्तरिक भावों के सहज प्रवाहमय सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. अपने मनोभावों को ठीक ठीक शब्दों में बाँध नहीं पा रही...

    सुखद आश्चर्य ने अभिभूत कर रखा है अभी..

    आपकी लेखनी इसी प्रकार उत्कृष्ट सृजन करती रहे, यही मंगल कामना है...

    उत्तर देंहटाएं
  24. अवसादों के गलियारों में ,हमने खुद को समझाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी, हाथ बहुत कुछ आया है

    गहन ... अभाव ही जीतने के भावों को जन्म देते हैं अक्सर....

    उत्तर देंहटाएं
  25. मिल भी जाता अमरत्व अगर ,वेदना बहाकर ले जाता

    वाह !!!!!!!!!!!!!!!!!बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  26. खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है

    ... बहुत सशक्त अभिव्यक्ति
    नई पोस्ट .....मैं लिखता हूँ पर आपका स्वगत है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस सार्थक पोस्ट के लिए बधाई स्वीकारें .

      हटाएं
  27. सच में है वो जीवट का धनी,जो आँसू पीकर हँसता है
    टूटी आशाओं के मलबे में ,जिसका सपना बसता है
    जो डरा रहा वह भंगुर है,बस वही यहाँ फौलाद बना
    जो लौह हक़ीकत की ज्वाला में, अच्छी तरह झुलसता है

    अंजनी जी गहन और बहुत ही सशक्त अभिव्यक्ति ..सटीक है ...
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  28. अवसादों के गलियारों में ,हमने खुद को समझाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी, हाथ बहुत कुछ आया है


    अपने कंधे पर अपना ही शव, इसने कभी उठाया है
    खण्डहरों का मालिक बनकर भी ,हाथ बहुत कुछ आया है
    इस बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपका आभार ,हर पंक्ति अनुभव प्रसूता है ,रचना की बड़े फलक की कविता है यह .... veerubhai1947.blogspot.com ,43,309 ,Silver Wood DR,CANTON,MI,48,188
    001-734-446-5451
    वीरुभाई .

    उत्तर देंहटाएं